रीठा

 रीठे में छिद्र करके धागे को पिरोकर बच्चे के गले में पहना देने से हिचकी व दृष्टि दोष मिट जाता है ।

रीठा

          Photo courtesy - wikipedia


        रीठे में छिद्र करके धागे को पिरोकर बच्चे के गले में पहना देने से हिचकीदृष्टि दोष मिट जाता है। यदि मां का दूध पीने वाले शिशु को बहुत हिचकियां आ रही हों तो उसके सिरकलेजे पर कड़वे तेल की हल्के हाथ से मालिश करने के उपरांत एक तिनका बच्चे के सिर के ऊपर हाथ करके तोड़ते हुए उस तिनके के टुकड़ों को बच्चे के पीछे की ओर फेंक दें । हिचकी आनी तुरंत बंद हो जाएगी

          बच्चे की मां के पहनने के किसी कपड़े का टुकड़ा पानी में भिगोकर बच्चे के माथे पर रख दें। हिचकी रुक जाएगी । हिचकी रुकने के बाद वह टुकड़ा नदी के किनारे दबा दें ।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां